Tag: the gosai

Universe

आँखो में देखने वाला बिंदु जैसा डॉट (Floaters) क्या है?

कई बार हमारी आँखो के बीच हमें एक कला डॉट दिखाई देता है जो खिसकता भी है. कई बार एक नहीं पर दो तीन दिखाते है. इस डॉट को Floaters कहेते है. दरसल हमारी आँखो में Retina और लेन्स के बीच Vitreous Humour नाम का ग्लिसीरीन प्रकार का एक तरल प्रवाही हमेशा मौजूद रहेता है. …

Universe

मंगल ग्रह पर जीवन (Life on the Mars)

क्या सूर्यमंडल के अन्य ग्रहों की तरह मंगल-ग्रह भी शुष्क और बेजान है? या वहां भी कभी जीवन की शुरुआत हुई थी? क्या मंगल पर एलियन हो सकते है? क्या ये लाल ग्रह कभी पृथ्वी की तरह एक हरा-भरा ग्रह था? आइये इन सब सवालो के जवाब जानते है. यूनानी लोग मंगल ग्रह को Aeas …

Universe

ध्रुवीय रोशनी (Aurora, Polar Lights)

सूर्य हर सेकण्ड लगभग 10,00,000 टन जितना शुक्ष्म-कणों का भंडार अंतरिक्ष में फैक देता है. उन विद्धुत चुम्बकीय तरंगो को सौरपवन कहा जाता है. 2000 किलोमीटर प्रति सेकण्ड की गति से जब वो पवन पृथ्वी की सीमा में आते है तब उसके प्रोटोन आयनों को आगे गति करने में रूकावट होती है. क्योंकी, अंतरिक्ष में …

Knowledge

हमें सपने क्यों आते है?

सपने आने का निश्चित साइंटिफिक कारण तो आज तक वैज्ञानिक नहीं जान पाए है पर उस कारण की खोज में वो स्वप्न के बारेमे बहोत कुछ जानने में कामियाब रहे है. संसोधनो के अनुसार नींद में हमारा कुछ समय अगर स्वप्न देखने में ना बिते तो दिमाग और मन तंदुरस्त नहीं रह सकते. सपने नींद …

Knowledge

विटामिन डी (Vitamin D)

विटामिन D की शोध अमेरिका की केलिफोर्निया यूनिवर्सिटी के वैज्ञानिको ने सन 1967 में की थी. वास्तव में यह विटामिन न होकर एक स्टेरॉईड होर्मोन है. A, B-कोम्प्लेक्स और C जेसे विटामिन हमे बहार से मिलते है जब की D3 नाम का ये होर्मोन सूर्यप्रकाश की हाजरी में हमारे शरीर के अन्दर त्वचा के भीतर …

Universe

अंटार्कटिका (Antarctica in Hindi)

Antarctica दुनिया के 7 महाद्वीपों में से एक है. ये 14,000,000 वर्ग किलोमीटर वाला विस्तार लगभग पूरा बर्फ से ढका हुआ है. यहाँ शरीर को गलादेने वाली ठंड लगभग पुरे साल रहेती है. Antarctica में कई देशो ने अपने वैज्ञानिक शंसोधन केंद्र स्थापित किये हुए है, जिनमे भारत सहित अमेरिका, रूस, चीन, अर्जेन्टीना, पोलैंड, ब्राजील, …

Story

भयानक रात

भयानक रात ======== हम बहोत ही गहरे ४ दोस्त थे. आशीष, कीर्ति, चिराग और मैं. हम चारो बचपनसे ही साथ पले-बड़े. ये बात है २००२ की जब हम चारो १२वि कक्षा की एक्जाम पूरी कर वेकेशन एन्जॉय कर रहे थे. एक दिन हम मेरे घर के टेरेस पर बैठ कर भुत-प्रेत के बारेमे बाते कर …