Tag: hindi

वरुण ग्रह (Planet Neptune)

सूर्य से लगभग 4.5 अरब किलोमीटर दूर बसा है वरुण (Neptune) ग्रह। यह ग्रह भी एक गैस प्लेनेत है और ये अरुण (Uranus) ग्रह से काफी मिलता जुलता है, Neptune पृथ्वी से काफी दूर होने की वजह से एक टिमटिमाते तारे जैसा दिखता है। Neptune को सबसे पहले 1846 मे Urbain Le Verrier और Johann …

बृहस्पति ग्रह (Planet Jupiter)

सौरमंडल का सबसे भारी और सबसे बड़ा ग्रह है बृहस्पति यानी Jupiter जिसे vacuum cleaner भी कहते है। सुर्य से 77 करोड़ 84 लाख 12 हज़ार किलोमीटर दूर और पृथ्वी से शुक्र के बाद अपनी आँखो से दिखाई देने वाला ये ग्रह इतना बड़ा है कि इसमे 1300 पृथ्वी समा सकती हैं। पृथ्वी से लगभग …

मंगल ग्रह (Planet Mars)

मंगल से सूर्य की दूरी 22 करोड़ 80 लाख किलोमीटर है। ऑक्साइड की मात्रा सबसे अधिक होने की वजह से यह लाल दिखता है। 6794 किलोमीटर व्यास के साथ मंगल का क़द पृथ्वी से आधा है। यहा के वायुमंडल मे 95% कार्बन है। मंगल सूर्य के आसपास की एक परिक्रमा 687 दिनों मे पूरी करता …

पृथ्वी ग्रह (Planet Earth)

अब बारी हमारे घर यानी पृथ्वी की, जो सूर्य से 14,95,98,261 किलोमीटर दूर है और सूरज के प्रकाश को वहाँ से यहाँ तक पहोचने में 8 मिनट और 20 सेकंड जितना समय लगता है। पृथ्वी अबतक का एक लौता ग्रह है जिसपर भरपूर जीवसृष्टि पनप रही है, और धरती के हर प्राणी मे कार्बन मौजूद …

बुध ग्रह (Planet Mercury)

सूर्य से 5 करोड़ 76 लाख किलोमीटर की दूरी पर सौर्यमंडल का प्रथम ग्रह बुध (Mercury) निवास करता है। Mercury नाम रोमन देवता के नाम पे रक्खा गया था, और प्राचीन लोग इसे सुबह का तारा और शाम का तारा भी कहते थे. भूतकाल में इस ग्रह की खोज किसने और कब की इसका कोई …

Greece’s Ancient Computer, Antikythera Mechanism, दुनिया का सबसे पुराना ग्रीक कोमप्यूटर.

सन 1901 में खोजकर्ताओं को समुद्र से एक यंत्र मिला. इसकी बनावट बहोत पेचीदा थी और दिखने में ये एक गणनयंत्र जैसा दिख रहा था. इस लिए इसे Ancient Computer माना गया. खोजकर्ताओ के अनुसार इसे 87-150 BCE के बीच के बनाया होंगा. यानी ये क़रीब 2000 सालों से भी ज़्यादा पुराना है. और वैज्ञानिक …

1 से 11 डायमेंशन (1 to 11 Dimensions Explained)

इस पूरी दुनिया का अस्तित्व डायमेंशनस के ऊपर टिका है, डायमेंशन के बिना ब्रह्मांड का भी कोई वजूद नहि हो सकता क्यूँकी ब्रह्मांड ख़ुद डायमेंशन में मौजूद है. आप इसे यूँ कह सकते है के ब्रह्मांड के निर्माता ने दुनिया को और इंटरेस्टिंग बनाने के लिए इसे डायमेंशनस में सजाया है. तो चले आज जानते …

ISRO में जॉब कैसे पाए? How to get Job in ISRO India? (ISRO salary and job qualification)

Indian Space Research Organization किस स्थापना 15 अगस्त 1969 में हुई थी इसका हेडकोटर बेंगलुरु में है. इस भारतीय ऑर्गनिज़ेशन की बहोत सारी उपलब्धियाँ है. और आज ISRO को दुनिया की सबसे रिस्पेक्टेड और बेहतरीन स्पेस एजेंसी में से एक माना जाता है. इस लिए ISRO में नोकरी पाना किसी के लिए भी गर्व की …

स्पेस-साइंस की शाखाओं के नाम? (Branches of Space Science)

एस्ट्रोनोमी (Astronomy) स्पेस साइंस की इस शाखा में सूर्य, चंद्र, अन्य ग्रह, तारे, उल्का, गेलेक्षि जैसे विषयों पर अध्ययन किया जाता है. एस्ट्रोफिजिक्स (Astrophysics) इस शाखा में तारो के जन्म और मृत्यु, निहारिकाओ के निर्माण और सौर मंडल की अन्य पिंडो का अध्ययन भौतिकी और रसायन शास्त्र के नियमो के आधार पर किया जाता है. …

नासा में एस्ट्रोनौट्स को कैसे दी जाती है ट्रेनिंग? Training of Astronauts in NASA

एस्ट्रोनॉट बनने की ट्रेनिंग में उम्मीदवार की सहनशक्ति को ललकारा जाता है. इसमें उसकी फिजिकल, साइकोलॉजिकल और बौद्धिक सीमा का पता चल जाता है. जिन उम्मीदवारों का सिलेक्शन हो जाता है उन्हें 2 साल की फ़ाइनल ट्रेनिंग दी जाती है जिसमें उम्मीदवारों को वास्तविक स्पेस मिशन में काम में आने वाली स्किल सिखाई जाती है. …