NASA में एस्ट्रोनौट बनने के लिए क्या रिकवयमेंट होती है? How to become astronaut in NASA?

NASA (The National Aeronautics and Space Administration) ये United States की ऐरो-स्पेस ऑर्गनिज़ेशन है. इसका मिशन अंतरिक्ष को एक्सप्लोर करना और स्पेस मिशन आयोजित करना है. NASA में सामान्य कर्मचारी से लेकर इंजीनियर, साइंटिस्ट और एस्ट्रोनॉट तक काम करते है. इस लिए NASA में जॉब पाने के लिए आपको साइंस में माहिर होना पड़ेगा, और इसके लिए 12th में अच्छे नंबरों से पास आउट होकर डिग्री लेनी होगी.

NASA में साइंटिस्ट बनना और एस्ट्रोनॉट बनना दो अलग अलग चीज़ें है. साइंटिस्ट धरती पर रहे कर सपेश मिशन आयोजित करते है, थिरीज़ बनाते है और उसे प्रूव करने के लिए रिसर्च करते है, और यहाँ से ही सेटेलाइट्स को ओपरेट करते है. जब की एस्ट्रोनॉट स्पेस क्राफ़्ट में बैठ कर अंतरिक्ष में जाते है और वहाँ रिसर्च करते है. वे ब्रह्मांड का अध्ययन करते है, ग्रह तारों और आकाशगंगाओ की स्टडी करते है. यहाँ हम जानेंगे नासा में एस्ट्रोनॉट कैसे बने!

NASA में एस्ट्रोनौट बनने के लिए क्या रिकवयमेंट होती है?

पहेले 60’ के दशक में NASA मिलिटरी बैकग्राउंड के लोगों को बतौर एस्ट्रोनॉट चुनती थी. क्यूँकी तब एस्ट्रोनॉट तैयार करने के लिए कोई ख़ास इंस्टिट्यूट नहि थे. और मिलिटरी में उन्हें एंजिनियरिंग बेकग्राउंड और जेट प्लेन को उड़ने वाले इक्स्पिरीयन्स बंदे मिल जाते थे. पर ये सुरुआति दौर में हुआ करता था. बाद में एस्ट्रोनॉट बनने के लिए ख़ास संस्थान खोले गये क्यूँकी इसके लिए साइंस और रिसर्च में महारथ होनी आवश्यक होती है.

NASA की अफ़िशल साइट में मुताबिक़ हाल के समय में बतौर एस्ट्रोनौट काम करने के लिए आपके पास एंजिनियरिंग, बायोलोजिकल साइंस, फिसिक्स, कोमप्यूटर साइंस और मैथेमैटिक्स इन पाँच में से कम से कम किसी भी इस में बेचलर डिग्री होनी चाहिए. मास्टर या डॉक्टरेट हो तो उसे अधिक प्रेफरंस मिलेगा. इसके साथ इसी डिग्री में कम से कम 3 साल का रिलेवेंट एक्सपिरीयंस होना चाहिए, अथवा जेट एर-क्राफट को 1000 घंटे तक उड़ाने का अनुभव होना चाहिए. इसके साथ NASA का एक फिसिकल फ़िट्नेस टेस्ट पास करना आवश्यक होता है.

ये तो हुई क्वालिफ़िकेशन की बात. व्यक्तिगत बात करे तो एस्ट्रोनॉट बनने के लिए मानसिक एकाग्रता और दृष्टि तेज़ होनी चाहिए. शरीर का क़द 5”2 से 6” फ़िट के बीच होना चाहिए.

नासा में सेलरी कितनी होती है?

NASA के अनुसार एस्ट्रोनॉट की स्टार्टिंग सेलरी $66,000 a year होती है. और सिनियत तथा अनुभवी एस्ट्रोनॉट को सालाना $144,566 तक दिया जाता है. जो भारतीय मुद्रा में क़रीब 45 लाख से 1 करोड़ होती है. ये सेलरी स्केल पिछले साल यानी 2018 का है.

नासा में जॉब पाने के लिए आप इन वेबसाइट पर एप्लाय कर सकते है. https://nasajobs.nasa.gov

https://www.nasa.gov/careers/

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *