Laika Dog Story in Hindi – अंतरिक्ष में जाने वाली पहली जानवर लाइका

Laika स्पेस में ट्रैवल करने वाली पहेली एनिमल थी. Laika से पहेले कुछ इन्सेक्टस और ऐल्बर्ट-1 नाम के एक बंदर ने भी आंतरिक्षयात्रा की थी. लेकिन वो सीफ अर्थ की सब-ओर्बिटल सीमा तक ही सीमित थी. इसी लिए एक्चुअल स्पेस में सफ़र करने वाले पहेले जानवर का ख़िताब Laika के नाम रहा.

सन 1950, ये वो दौर था जब इंसान स्पेस में जाने के लिए बेताब था. और इसके लिए उसने एक एक्सपरीमेंटल स्पेस मिशन आयोजित किया. जो इंसान को स्पेस में भेजने से पहेले जानवर को वहाँ भेज कर किया जाने वाला प्रयोग था. इस मिशन का मक़सद बस ये जानना था के क्या आउटर स्पेस में कोई जीव ज़िंदा रहे सकता है या नहि. और इसके लिए रशियन वैज्ञानिकोने मॉस्को की सड़कों से एक तीन साल की आवारा फिमेंल डॉग Laika को उठाया. और 3 November 1957 के रोज़ उसे Sputnik 2 नाम के स्पेसक्रैफ़्ट में बैठाया गया.

बेचारी Laika को तो ये भी न मालूम था के वो किस प्रयोग का हिस्सा बनी है. खेर Sputnik 2 स्पेसक्राफ़्ट में ओक्षिजन जनरेटर, कार्बन एब्ज़ोरवर, फ़ेन, एक हफ़्ते का भोजन और हर वो चीज़ थी जो एक डॉग को ज़िंदा रहेने के लिए चाहिए.

आख़िर स्पेसक्रैफ़्ट को लोंच किया गया. वो सक्सेसफूली लोंच हुआ भी पर टेकनिकल ग़लती की वजह से क्रैफ़्ट का एक हिस्सा उससे अलग नहि हो सका. और इस कारण स्पेसक्रैफ़्ट में टेम्प्रेचर बढ़ने लगा. कैबिन में गर्मि का पारा इतना बढ़ गया के लाइका उसे सह नहि पाई. वो गर्मि से 4 घंटो तक लगातार जूजती रही और आख़िर में असहय ताप ने Laika की जान ले ली. Laika की मौत के बाद स्पेसक्रैफ़्ट लगभग साढेपाँच महीनो तक अर्थ के चक्केर लगाता रहा. और अंत में 14 एप्रिल 1958 के दिन क्रैफ़्ट अर्थ के वायुमंडल में दाख़िल होते ही Laika के सव के साथ जल कर राख हो गया.

उसके बाद पूरे विश्व के लोगों ने Laika के प्रति संवेदना व्यक्त की. बाद में रशियन गवर्मेंट ने Laika को सम्मान देते हुए उसकी प्रतिमा भी बनवाई. कहा जाता है के 60 के दशक में रशिया ने 57 कुत्तों को एक्सपरिमेंट के लिए स्पेस में भेजा था. जिनमे से कई मर गये तो कुछ वापस आए और जो वापस आए उनको दोबारा स्पेस में भेजा गया था. पर विश्व की आलोचना से बचने के लिए रशिया ने अपने सारे मिशन ज़ाहिर नहि होने दिए.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *