2050 से पहेले क्या-क्या होगा?

आज के दौर में भविष्य देखने के लिए किसि ज्योतिष की ज़रूरत नहीं, हम वर्तमान आँकड़ो को एनलाइस कर के भी ये जान सकते है के नज़दीकी भविष्य में क्या होने वाला है

तो चलो वैज्ञानिक आधारों से देखते है की सन 2050 तक दुनिया में क्या क्या होने वाला है!

2020

इस साल तक दुनिया की सबसे ऊँची बिल्डिंग बनकर तैयार हो चुकी होगी। जेस के सब जानते है आज दुनिया की सबदी बड़ी इमारत दुबई में स्थित द बूज़ ख़लीफ़ा है. लेकिन 2020 में साउदी अरवबिया इस रेकर्ड को तोड़ देगा और जेधा (Jeddah) टावर इसकी जगह लेगा. जिसकी ऊँचाई 3303 फ़िट होगी.

2021

इसी वर्ष में भारत में ह्यूज ऑप्टिकल फ़ाइबर नेट्वर्क का काम पूरा हो चुका होगा, जो ग्रामीण इलाकको के 60 करोड़ लोगोको इंटरनेट कनेक्टिविटी से जोड़ देंगा.

इसी के साथ पूरी दुनिया में 6.1 बिलियन लोग स्मार्ट फ़ोन का उपयोग कर रहे होगे. आधे से ज़्यादा अमेरिकन सोलर एनर्जी का उपयोग करते होंगे.

इसी साल में दुनिया की सबसे पहेली स्पेस होटेल अंतरिक्ष में सुरु होगी. और इसी वर्ष में यूरोपियन यूनियन में सेल्फ़ ड्राइविंग कार चलना अलाउ कर दिया जाएगा है.

2024

Space-X कंपनी अपनी कार्गो स्पेसशिप लाल ग्रह मंगल पर भेजेंगी. और बाद में अगर मिशन सफल रहा तो वो पहेल इंसान मंगल पर भेजेंगे.

2024 तक विकसित देशों के घर फुल्ली स्मार्ट हो चुके होंगे। और होम एप्लायंसिस में भी लोग इंटरनेट का उपयोग करते होंगे.

2025

यहाँ तक दुनिया की आबादी 8 अरब को पार कर चुकी होगी.

दुनिया में गाड़ियों की तादात भी बढ़ जाएँगी और उसके साथ ही पब्लिक ट्रान्स्पोर्ट में क्रांति आएगी.

दुबई में दुबईलैंड के महा-प्रॉजेक्ट का कंस्ट्रकशन पूरा हो जाएगा।

2026

महकाय द सगर्दर फ़ेमिलिया केठीडर का निर्माण पूरा हो जाएगा. इसका निर्माण बरसेलोना में 1883 में शुरू हुआ था. और आख़िरकार 2026 में 143 साल बाद इसका निर्माण पूरा हो जाएगा.

गूगल इंटरनेट को आज से 1000 गुना तेज़ कर चुका होगा.

2028

वेनिश और मॉल्डीव्ज़ बाढ़ का सामना कर रहे होगे. एशिया सभी एर ट्रैवल का सेंटर बन जाएगा।

2030

हमारी पृथ्वी की ओर बढ़ रहा पोफेश ऐस्टरॉड हमारी धरती के बेहद क़रीब से गुज़रेगा. इंटरनेशनल सपेश सेंटर से इसे टकराने का ख़तरा सिर्फ़ 2.7% है.

2033

ह्यूमन मास मिशन शुरू हो जाएगा जिसका नाम होगा अरोरा.

इंटरनेशनल स्पेस स्टेशन के प्रोग्राम Moon, Mars और Asteroid पर स्टडी कर रहे होंगे.

ब्रेन डेमेज और मनोविकृति पे विज्ञान बहोत ज़्यादा प्रगति कर चुका होगा.

2035

सोर ऊर्जा में 0.01% की कमी होगी जिससे पृथ्वी पे लगू हिमयुग शुरू हो सकता है।

3D पेंटिंग आम बन जाएगी.

प्रोक्ष आल्फ़ा सेंचयूरि स्टार सिस्टम पर स्टडी करना शुरू कर देगा. इसे उसके अध्ययन में 20 साल लगेंगे.

2038

हम बहेरापन (डेफ़्ट) पे विजय पा लेंगे.

दुनिया की आबादी 9 अरब को पार कर लेंगी.

2045

यहाँ तक टेक्नोलोजी इतनी जटिल हो जागेगी के आम इंसानो के लिए इसे समज पाना बेहद मुश्किल बन जाएगा. हम आज के मुक़ाबले 80% ज़्यादा मशीनो का उपयोग कर रहे होंगे.

हम केन्सर पर भी विजय पा लेंगे.

2050

अगर सबकुछ ठीक-ठाक रहा तो मंगल पर कोलोनाइज़ेशन शुरू हो जाएगा.

दुनिया की 50% आबादी नज़दिनी दृष्टि की बीमारी से ग्रस्त होगी. लेकिंग आँखों को तेज़ तकनीक टेक्नोलोगी भी आम बन चुकी होगी.

Leave a Reply to Anonymous Cancel reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *