शनि ग्रह (Planet Saturn)

अगर सौरमंडल का सबसे ख़ूबसूरत ग्रह देना हो तो वो हमारे सूर्य से लगभग 143 करोड़ किलोमीटर दूर है। जिसे हम शनि ग्रह (Saturn) के नाम से जानते है। यह सूर्यमंडल का छठा ग्रह है। पृथ्वी से इस ग्रह को आप अपनी आँखो से भी देख सकते हो। शनि के खुद के 62 उपग्रह थे, और October 2019 मे नए खोजे गए 20 और उपग्रहों को मिला दे तो आज शनि ग्रह के उपग्रहों की कुल संख्या 82 हो चुकी है। ये सूर्यमंडल में गुरु (बृहस्पति) ग्रह के बाद सबसे अधिक उपग्रहों वाला ग्रह है, जिनमे से कुछ बहोत छोटे है तो कुछ बहोत बड़े। शनि ग्रह के सभी उपग्रहों में से सबसे बड़ा है टाइटन (Titan), ये ख़ुद बुध ग्रह से भी बड़ा है। शनि का सबसे छोटा उपग्रह मिमस (Mimas) है। और शनि का सबसे चमकदार उपग्रह इंसेलेडस (Enceladus) है। यह अपने ऊपर पड़ने वाली सूरज की सारी रोशनी को परावर्तित कर देता है। क्यूँकि इसकी सतह सपाट सफ़ेद बर्फ़ की बनी है।

इस ग्रह पर एक दिन 10 घंटे और 33 मिनट का होता है। और इसे सूर्य का एक पूरा चक्कर लगाने में 29 साल लगते है.

शनि का घनत्व पृथ्वी की तुलना मे 8 गुना कम है, फिर भी शनि की विशालता इतनी है की उसमे 763 पृथ्वी समा जाए। क्यूँकि इसका व्यास (Diameter) 120,000 किलोमीटर है। हायड्रॉजन और हिलियम से बने इस ग्रह का औसतन तापमान -180 से -170 °C रहेता है। शनि अपने वलयो के कारण दुसरे ग्रहो से अनूठा एवं सुंदर दिखता है, ये वलय मुख्य रूप से पानी, बर्फ, धूल और चट्टानो के कण से बने है। गैलिलियो ने सबसे पहले सन 1610 मे जब शनि को दूरबीन से देखा था तब उसके इसके अजीब से आकर को देखकर कहा था की “शायद शनि ग्रह के दो कान भी है”।

शनि के 82 उपग्रहों मे से एक है “TRITAN” जो वैज्ञानिको के अनुसार पृथ्वी के बाद भविष्य में मनुष्य के लिए रहने योग्य हो सकता हैं, क्योंकि यहाँ नदी, पर्वत, और रेगिस्तान भी देखे गए है, लेकिन अभी यहाँ मिथेन का भंडार है और मिथेन तथा ऑक्सीजन मिलकर बड़े विस्फोटक हो सकते है। लेकिन अगर भविष्य मे कुछ कुदरती बदलाव होते है, तो शायद मानव जीवन यहा संभवतः आवास कर सकता है।

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

error: Content is protected !!