पृथ्वी ग्रह (Planet Earth)

अब बारी हमारे घर यानी पृथ्वी की, जो सूर्य से 14,95,98,261 किलोमीटर दूर है और सूरज के प्रकाश को वहाँ से यहाँ तक पहोचने में 8 मिनट और 20 सेकंड जितना समय लगता है। पृथ्वी अबतक का एक लौता ग्रह है जिसपर भरपूर जीवसृष्टि पनप रही है, और धरती के हर प्राणी मे कार्बन मौजूद हैं। एक थियरी के अनुसार लगभग 450 करोड़ वर्ष पूर्व सुर्यमंडल मे मंगल के आकार का एक ग्रह था जो की पृथ्वी के साथ ही एकपथ पर परिक्रमा कर रहा था। किसी कारण वश वो धरती से टकराया और इस टकराव से एक तो धरती थोड़ी सी मूड गई और इससे पृथ्वी का जो हिस्सा अलग हुआ वो हमारा चाँद बन गया। पूरे सौरमंडल मे पृथ्वी ही एक मात्र ग्रह है जहा पानी घन, प्रवाही और वायु तीनो रुप मे मौजूद है। धरती पर हर रोज़ क़रीब 4500 बादल गरजते है, हा ये बात अलग है की वायुमंडल की वजह से वो सारे सुनाई नहीं देते। यहाँ 500 जितने सक्रिय ज्वालामुखी है। हमारी धरती का गुरुत्वाकर्षण कुछ ऐसा है की यहा पर पर्वतो की ऊंचाई 15000 मीटर से ज्यादा संभव नहीं।

हम सब यही जानते है की पृथ्वी गोल है लेकिन ये भी पूरी तरह से सच नहीं है। पृथ्वी की भूमध्य रेखाये और ध्रुवीय व्यासो मे 41km का फर्क है, तो पृथ्वी ध्रुवो से थोड़ी चपटी (प्लेन) और भूमध्य रेखा से थोड़ीसी बाहर की तरफ उभरी हुई हैं। धरती अपनी धुरी पर 1600 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से घूम रही है, और सूर्य के आसपास क़रीब 108,000 किलोमीटर प्रति सेकंड की रफ्तार से चक्कर लगा रही है। अतः पृथ्वी का एक दिन 24 घंटे का, और एक साल 365 दिन, 5 घंटे, 48 मिनट, और 46 सेकंड (365.2422 days) का है। और इस ऊपरी समय की गेप को पूरा करने के लिए हर 4 वर्ष में एक leap year आता है, जिसमें एक अतिरिक्त दिन जोड़ा जाता है। अगर चंद्रमा पृथ्वी का उपग्रह नहीं होता तो आज हमारा एक दिन लगभग 30 घंटो का होता। और खास बात अगर आपका वजन 100kg है तो पृथ्वी पर अपने खुद का ख्याल न रखने पर वो बढ़ सकता है और सेहत का ख्याल रखने पर घट भी सकता है। तो स्वस्थ रहे और हमारी पृथ्वी को स्वच्छ और सुंदर रखे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *